गिरते बाजार में बिखर गए अडानी ग्रुप के शेयर: निवेशकों के डूब गए ₹1.7 लाख करोड़

Nifty and Bank Nifty Analysis : 2025 में कहाँ तक जायेंगे सेंसेक्स और निफ्टी - पंकज पांडेय

#bankniftyprediction #niftyanalysis #stockmarketnews #stockmarketlive #niftypredictionfortomorrow #niftyprediction #bankniftytomorrowprediction #stockmarketcrash #niftytomorrow #icicidirect #pankajpandey

Nifty Bank Kya Hai? बैंक निफ्टी स्टॉक लिस्ट

स्टॉक मार्केट एक अलग सब्जेक्ट है जिसके अपने शब्द और डिक्शनरी है। अगर आप के घर परिवार या फ्रेंड सर्कल में कोई भी व्यक्ति स्टॉक मार्केट से जुड़ा नही है तब आपको यह बहुत बड़ी चीज लग सकती है। स्टॉक मार्केट बेसिक्स में बात करेंगे की NIFTY BANK क्या है

जब हम सुबह न्यूजपेपर पढ़ते है तो अक्सर Nifty Bank जो की लगातार सुर्खियों में बना रहता है उससे जुड़ी खबर मिल ही जाती है बैंक निफ्टी 300 पॉइंट लुढ़का। निफ्टी बैंक ने दिखाई 400 पॉइंट की बढ़त। और लोग बस यह सोच कर पेज पलट देते है की पता नही निफ्टी बैंक क्या है अगर उसी वक्त थोड़ी सी जहमत उठा लेते और जान लेते तो शायद आज आप स्टॉक मार्केट से बहुत सारा paisa कमा चुके होते

NIFTY BANK क्या है

Nifty Bank अथवा बैंक निफ्टी एक स्टॉक मार्केट इंडेक्स है जो कि बैंकिंग सेक्टर के स्टॉक्स को रिप्रेजेंट करता है। निफ्टी बैंक 12 बैंको का समूह है जिसमे PSU bank तथा प्राइवेट सेक्टर के highly liquid और large cap (बड़े बैंक्स) शामिल किए जाते है।

NSE पर भारत की लगभग सभी छोटी बड़ी बैंक लिस्टेड है जिनके स्टॉक शेयर बाजार में ट्रेड होते है ट्रेड होने बाले सभी बैंक स्टॉक्स को अलग-अलग न देखना पड़े और संपूर्ण बैंकिंग सेक्टर के स्टॉक का हाल समझ आ जाये इसलिए बैंकिंग इंडेक्स बनाया गया केवल बैंक nifty को देखकर संभी nse के बैंक स्टॉक्स का अंदाजा लगाया जा सकता है

stock market में 35 से अधिक बैंक्स लिस्ट है जिनमे आम नागरिको द्वारका ट्रेडिंग और इन्वेस्टिंग की जाती है

bank nifty में कौन कौन सी बैंक आती है

निफ्टी बैंक में 12 बैंक आते है जिनके नाम इस प्रकार है

  • HDFC BANK
  • ICICI BANK
  • KOTAK BANK
  • INDUSIND
  • AXIS BANK
  • BANK OF BARODHA
  • STATE BANK
  • BANDHAN BANK
  • PUNJAB BANK
  • IDFC BANK
  • AU SMALL FINANCE BANK
  • FEDRAL BANK

BANK NIFTY में शामिल होने के लिए eligibility

किसी भी बैंक को निफ्टी बैंक में शामिल नही किया जा सकता NSE ने इसके लिए कुछ CRITERE बनाया है जब किसी बैंक में यह सभी बेंचमार्क को क्वालीफाई करेगी तब ही उसको शामिल किया जा सकता है और यह जरुरी नही है की creiteria पास करने पास उस बैंक स्टॉक निफ्टी में बैंक में शामिल कर ही लिया जायेगा

  • जब बैंकिंग स्टॉक का रिव्यु किआ जा रहा हो तब यह जरुरी है की वह बैंक निफ्टी 500 का हिस्सा हो
  • स्टॉक बैंकिंग सेक्टर से बेलोंग करता है
  • कंपनी में volatility हो पिछले 6 Nifty में ट्रेडिंग कैसे करें माह में उसमे 90% ट्रेडिंग हुई हो
  • कम्पनी को list हुए कम से कम 6 माह हो Nifty में ट्रेडिंग कैसे करें चुके हो
  • केवल उसी बैंक को इंडेक्स का हिस्सा बनाया जा सकता है जिसमे F&O ट्रेडिंग होती हो
  • free-float market capitalization भी देखा जाता है

बैंक निफ्टी में कैसे निवेश किया जा सकता है

डायरेक्टली बैंक निफ्टी इंडेक्स में निवेश नही कर सकते है हा इसमें F&O ट्रेडिंग की जा सकती है परन्तु अगर आप बैंक निफ्टी में निवेश काना छह रहे है तो फिर इसके कुछ etf है जिनमे निवेश कर सकते है BANKBEES, ICICI Prudential Nifty Bank ETF इत्यादि

वही अगर आप इंडेक्स बैंक निफ्टी में ट्रेड करना चाहते है तो फिर ऑप्शन buy कर सकते है अथवा सेल कर सकते है यह बहुत रिस्की होता है इसलिए संभल के रिस्क मैनेजमेंट को जान कर ही ट्रेडिंग करना चाहिए.

कम जोखिम में ज्यादा फायदा पाने का आसान तरीका है ऑप्शन ट्रेडिंग से निवेश, ले सकते हैं बीमा

यूटिलिटी डेस्क. हेजिंग की सुविधा पाते हुए अगर आप मार्केट में इनवेस्टमेंट करना चाहते हैं तो फ्यूचर ट्रेडिंग के मुकाबले ऑप्शन ट्रेडिंग सही चुनाव होगा। ऑप्शन में ट्रेड करने पर आपको शेयर का पूरा मूल्य दिए बिना शेयर के मूल्य से लाभ उठाने का मौका मिलता है। ऑप्शन में ट्रेड करने पर आप पूर्ण रूप से शेयर खरीदने के लिए आवश्यक पैसों की तुलना में बेहद कम पैसों से स्टॉक के शेयर पर सीमित नियंत्रण पा सकते हैं।

DNA Hindi Money Guide : कैसै किया जाता है NIFTY या SENSEX में निवेश

DNA Hindi Money Guide : कैसै किया जाता है NIFTY या SENSEX में निवेश

डीएनए हिंदी:Nifty में ट्रेडिंग कैसे करें हर कोई चाहता है कि वह शेयर बाजार के बेहतरीन स्टॉक्स में निवेश करे और उसे अच्छा खासा मुनाफा हो. अगर हम आपको ये बताएं कि आप स्टॉक्स की जगह निफ्टी और सेंसेक्स में निवेश करके मुनाफा कमा सकते हैं तो सोचिए कितना फायदा मिलेगा. निफ्टी और सेंसेक्स में निवेश करने को लेकर बहुत से लोगों के मन में भ्रांतियां हैं कि इसमें कैसे निवेश करें? क्या ये फायदा देगा भी या नहीं? ये दोनों ही किसी भी म्यूचुअल फंड से ज्यादा फायदा देने में सक्षम हैं.

उदाहरण के लिए निफ्टी एक इंडेक्स है जिसमें नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) में टॉप 50 कंपनियां शामिल हैं. दूसरी तरफ सेंसेक्स बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) है जिसमें टॉप 30 बैरोमीटर है. ये अलग-अलग सेक्टर्स से जुड़े हुए शानदार प्रदर्शन करने वाली कंपनियों के ब्लू-चिप स्टॉक हैं.

अगर आप भी निफ्टी में निवेश करने की प्लानिंग कर रहे हैं तो आइए जानते हैं कि इसमें निवेश करने से पहले आपको किन बातों का ध्यान रखना चाहिए और कैसे निवेश कर सकते हैं?

इन्वेस्टमेंट के लिए लक्ष्य

अपने फाइनेंशियल गोल को पाने के लिए आपको पहले यह पता करना होगा कि आप किस चीज को ध्यान में रखकर निवेश कर रहे हैं. जैसे बेटी की शादी, पढ़ाई या घर बनाने के लिए. ऐसा करने से निवेश बेहतर हो जाता है.

डीमैट अकाउंट खोलें

  • एक स्टॉकब्रोकर चुनें जो आपके लिए डीमैट अकाउंट खोलने में मदद करेगा.
  • ऑनलाइन ऑफलाइन दोनों तरीके से आप स्टॉकब्रोकर से संपर्क कर सकते हैं.
  • केवाईसी (KYC) शर्तों को कंप्लीट करें.
  • वेरिफिकेशन प्रक्रिया को कंप्लीट करें और आप सेट हैं.

निफ्टी में कैसे निवेश करें?

निफ्टी में निवेश करने के लिए आप स्पॉट ट्रेडिंग, डेरिवेटिव ट्रेडिंग का इस्तेमाल कर सकते हैं.

स्पॉट ट्रेडिंग: निफ्टी में इन्वेस्टमेंट करने का सबसे आसान तरीका है बड़ी कंपनियों में निवेश करें. जैसे ITC, Gail और अन्य शानदार निफ्टी स्टॉक्स. इन सभी में इन्वेस्टमेंट करने के बाद जब एक समय बाद इनकी कीमत बढ़ जाती है तो आपको मुनाफा भी बेहतर होगा.

डेरिवेटिव ट्रेडिंग: डेरिवेटिव फाइनेंशियल कॉन्ट्रैक्ट्स होता है. यह एक आधारभूत परिसंपत्ति से अपना मूल्य प्राप्त करते हैं. ये स्टॉक, कमोडिटीज, करेंसीज आदि हो सकते हैं.


साल 2000 से लेकर अब तक निफ्टी 50 में कितना अंतर आया?

  • साल 2000 में निफ्टी 1313 रुपये पर बना हुआ था.
  • साल 2005 में यह 2,836.55 रुपये पर था.
  • साल 2010 में इसका स्तर बढ़कर 5,948 रुपये पर आ गया.
  • साल 2015 में यह 7,761.95 रुपये पर देखा गया.
  • साल 2020 में यह बढ़कर 13,258.55 रुपये पर आ गया.
  • आज यानी कि हाल के वक्त में यह 16,630.45 रुपये पर ट्रेडिंग कर रहा है.

अब तक के रिकॉर्ड के मुताबिक इसमें 1,766.91 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है.

हमसे जुड़ने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर आएं और डीएनए हिंदी को ट्विटर पर फॉलो करें

कोरोना के डर से दहला शेयर बाजार: क्रिसमस से पहले निवेशकों को ₹15.37 लाख करोड़ का नुकसान

बता दें कि शेयर बाजार पिछले चार कारोबारी सत्रों से लगातार टूट रहा है। निवेशकों की भारी बिकवाली से बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 980.93 अंक यानी 1.61 प्रतिशत लुढ़कते हुए 59,845.29 अंक पर खिसक आया।

कोरोना के डर से दहला शेयर बाजार: क्रिसमस से पहले निवेशकों को ₹15.37 लाख करोड़ का नुकसान

Stock Market Crash 23 Dec 2022: चीन समेत कुछ देशों में कोविड-19 संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ने से शुक्रवार को एशियाई बाजारों में गिरावट का रुख रहा। भारतीय बाजार भी इससे अछूते नहीं रहे और बड़े नुकसान के साथ बंद हुए। दोनों प्रमुख इंडेक्स में बड़ी गिरावट रही।

आज 1000 अंक के करीब गिरा सेंसेक्स
बता दें कि शेयर बाजार पिछले चार कारोबारी सत्रों से लगातार टूट रहा है। निवेशकों की भारी बिकवाली से बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 980.93 अंक यानी 1.61 प्रतिशत लुढ़कते हुए 59,845.29 अंक पर खिसक आया। कारोबार के दौरान एक समय सेंसेक्स 1,060.66 अंक यानी 1.74 प्रतिशत तक धराशायी हो गया था। इसी तरह, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के निफ्टी में भी 320.55 अंक यानी 1.77 प्रतिशत की बड़ी गिरावट दर्ज की गई। निफ्टी 17,800 के मनोवैज्ञानिक स्तर से भी नीचे आ गया था लेकिन अंत में यह थोड़ा सुधरते हुए 17,806.80 अंक पर बंद हुआ।

गिरते बाजार में बिखर गए अडानी ग्रुप के शेयर: निवेशकों के डूब गए ₹1.7 लाख करोड़

मार्केट कैप पर असर
चार दिन की गिरावट की वजह से बीएसई का मार्केट कैपिटल लगातार कम हो रहा है। सोमवार 19 दिसंबर को मार्केट कैप 287.90 लाख करोड़ रुपये था जो अब 272.53 लाख करोड़ पर आ गया है। इस लिहाज से निवेशकों को 15.37 लाख करोड़ रुपये तक का नुकसान हो चुका है।

टाटा ग्रुप समेत दिग्गज शेयर धड़ाम
सेंसेक्स में शामिल कंपनियों में से टाटा स्टील को सर्वाधिक पांच प्रतिशत का नुकसान उठाना पड़ा। इसके अलाव टाटा मोटर्स, भारतीय स्टेट बैंक, बजाज फिनसर्व, रिलायंस इंडस्ट्रीज, विप्रो, इंडसइंड बैंक, लार्सन एंड टुब्रो और मारुति सुजुकी के शेयर भी खासे नुकसान में रहे।

ग्लोबल मार्केट में कोरोना का खतरा
एशिया के अन्य बाजारों में दक्षिण कोरिया के कॉस्पी, जापान के निक्की, चीन के शंघाई कम्पोजिट तथा हांगकांग के हैंगसेंग में गिरावट का रुख रहा। हालांकि, यूरोप के बाजार दोपहर के सत्र में बढ़त के साथ कारोबार कर रहे थे। अमेरिकी बाजार बृहस्पतिवार को गिरावट के साथ बंद हुए थे।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट?
रेलिगेयर ब्रोकिंग लिमिटेड के उपाध्यक्ष (तकनीकी शोध) अजित मिश्रा ने कहा, ''घरेलू बाजार निचले स्तर पर ही रहे और कमोबेश दो प्रतिशत तक टूट गए। यह बाजार में जारी गिरावट के मौजूदा रुख के अनुरूप ही है।'' अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 1.89 प्रतिशत चढ़कर 82.51 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया।

विदेशी निवेशकों ने भी बेचे शेयर
बाजार में जारी गिरावट के बीच विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने गुरुवार को खरीदारी की। उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक, एफआईआई ने 928.63 करोड़ रुपये के शेयरों की शुद्ध लिवाली की।

ये फैक्टर भी जिम्मेदार
एक्सपर्ट रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक के ब्योरा को भी गुरुवार को बाजार की गिरावट के लिए जिम्मेदार मान रहे हैं। इस रिपोर्ट में केंद्रीय बैंक ने कुछ सख्त टिप्पणियां की हैं। आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा था कि इस समय नीतिगत कार्रवाई को रोकने की गलती महंगी साबित हो सकती है। केंद्रीय बैंक ने कहा कि मुद्रास्फीति के खिलाफ लड़ाई खत्म नहीं हुई है।

रेटिंग: 4.24
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 434