2023 के लिए खुद से करें ये 5 वादा; पैसे-रुपये का मैनेजमेंट होगा मजबूत, इमरजेंसी में भी नहीं होगी दिक्‍कत

5 key financial resolutions for 2023: नए साल की शुरुआत अगले कुछ दिनों में होने वाली है. हर नए साल के साथ हमें अपने फाइनेंशियल फैसलों को लेकर एक रिव्‍यू करना चाहिए. पिछला साल हमारे फाइनेंशियल पोर्टफोलियो के लिए कैसा रहा, कहां अच्‍छा हुआ और कहां चैलेंजेज देखने पड़े, इन सभी बातों पर गौर करना जरूरी है. ऐसा इसलिए क्‍योंकि हमें कुछ न कुछ लर्निंग मिलती है, जो आने वाले साल के लिए काम करती है. इसके अलावा, निवेशकों को नए साल के लिए कुछ फाइनेंशियल रिजॉल्‍यूशन लेना चाहिए. जिससे कि आने वाले पूरे साल में मनी मैनेजमेंट मजबूत बना रहे और इमजरेंसी जैसे हालात में भी फाइनेंशियल दिक्‍कत न उठानी पड़े. म्‍यूचुअल फंड हाउस HDFC म्‍यूचुअल फंड ने अपनी एक वीकली सीरीज में निवेशकों को 2023 के लिए 5 फाइनेंशियल रिजॉल्‍यूशन लेने की सलाह दी है.

फाइनेंशियल जानकारी बेहतर करें

नए साल आपको पैसा कहां निवेश करना चाहिए के लिए सबसे बेहतर निवेश यह है कि निवेशकों को पर्सनल फाइनेंस से जुड़ी अपनी जानकारी बढ़ानी चाहिए. चाहें आप नए निवेशक हैं या पुराने अगर आपकी जानकारी अपडेट रहेगी, तो आप फाइनेंशियल फैसले बेहतर तरीके से ले पाएंगे. जैसेकि, अगर आप म्‍यूचुअल फंड्स में निवेश का प्‍लान करेंगे, तो इससे अपको अपनी जरूरत और लक्ष्‍य के मुताबिक फंड चुनने में आसानी होगी. साथ ही आपका निवेश को लेकर रिस्‍क फैक्‍टर भी कम रहेगा और आपकी फाइनेंशियल हेल्‍थ बेहतर रहेगी.

निवेश की रकम में करें इजाफा

नए साल में एक सबसे अहम बात यह है कि आपको अपने निवेश को टॉप- अप करना न भूलें. यानी, नए साल में आपको अपने निवेश की रकम बढ़ानी चाहिए. जैसेकि, अगर आप SIP करते हैं, तो SIP Top-Up के जरिए आप निवेश की रकम एक बार में यह एक रेगुलर इंटरवल पर बढ़ा सकते हैं. इससे इनकम बढ़ाने, महंगाई को मात देने और समय से निवेश लक्ष्‍य हासिल करने में मदद मिलेगी.

जैसेकि अगर आप 10 हजार हर साल किसी इक्विटी म्‍यूचुअल फंड्स में निवेश करते हैं, तो 8 फीसदी औसत सालाना रिटर्न पर आपको 10 साल में 1.56 लाख रुपये का फंड बना सकते हैं. वहीं, अगर आप हर साल अपने निवेश में 1,000 रुपये का इजाफा करते हैं, तो 10 साल बाद अनुमानित फंड 2.17 लाख रुपये हो सकता है. लंबे समय में निवेश पर कम्‍पाउंडिंग की पावर का फायदा होता है.

पोर्टफोलियो को डायवर्सिफाई करिये

नए साल की शुरुआत से पहले एक बार अपने पोर्टफोलियो पर नजर डालें. क्‍या आपने कुछ ही एसेट क्‍लास में निवेश किया है. या किसी एक एसेट क्‍लास में काफी ज्‍यादा निवेश कर रखा है. ऐसे में आपको पोर्टफोलियो को डायवर्सिफाई करने की जरूरत है. जैसेकि अगर आपने लॉर्ज कैप स्‍टॉक्‍स को फोकस करके इक्विटी फंड्स में निवेश कर रखा है और कुछ शॉर्ट टर्म गोल्‍स हैं, तो आपको डेट फंड्स में भी कुछ निवेश करना चाहिए. डायवर्सिफिकेशन का फायदा यह है कि आपके पोर्टफोलियो में वॉलेटिलिटी कम होती है.

Zee Business Hindi Live TV यहां देखें

इमरजेंसी फंड की कर लें समीक्षा

मनी मैनेजमेंट का एक गोल्‍डन रूल है कि एक इमरजेंसी फंड होना चाहिए. ऐसा इसलिए क्‍योंकि जीवन में कभी भी कुछ भी अप्रत्‍याशित हो सकता है. इसके लिए अपने और अपनी फैमिली को तैयार रखना चाहिए. इसलिए एक इमजरेंसी फंड हमेशा अलग से रखें, जो बीमारी, जॉब लॉस जैसी अचानक होने वाली चुनौतियों से निपटने में कारगर हो. एक्‍सपर्ट यह सुझाव देते हैं कि आपने मंथली खर्चे के बराबर की 3-6 महीने की रकम इमरजेंसी फंड में होनी चाहिए. इमरजेंसी फंड लिक्विड फॉर्म जैसेकि फ्लैक्‍सी एफडी, ओवरनाइट म्‍यूचुअल फंड्स, सेविंग्‍स अकाउंट में होना चाहिए, जिसे आप जरूरत पर तुरंत निकाल सके.

निवेश को ऑटोमेट करें

तेजी से बदलती टेक्‍नोलॉजी से निवेश करना भी सरल हो गया है. आज के समय में खर्चों को ऑटोपायलट पर करने के लिए किसी हाई लेवल की तकनीक की जरूरत नहीं होती है. यू‍टिलिटी बिल्‍स, क्रेडिट कार्ड के बिल जैसे पेमेंट्स को ऑटोमेट करना बेहतर फाइनेंशियल फैसला है, क्‍योंकि इससे लेट पेमेंट या चार्ज देने की झंझट खत्‍म हो जाती है, अगर आप पेमेंट करना भूल जाते हैं.

2023 में कहां करें निवेश? ये 10 म्यूचुअल फंड्स दे रहे सबसे बेहतर विकल्प

Best Mutual Funds: वह नियमित तरीके से होने वाली आय के साथ-साथ पैसों को नई-नई स्कीम्स में इन्वेस्ट कर एक्स्ट्रा आय का साधन बना रहे हैं. इन्हीं में से एक निवेश का साधन है म्यूचुअल फंड. म्यूचुअल फंड एक प्रोफेशनली रूप से मैनेज्ड निवेश स्कीम है, जो सिक्योरिटीज को खरीदने के लिए इन्वेस्टर्स से पैसा इकठ्ठा करती है.

मौजूदा साल (2022) अपने अंतिम पड़ाव पर पहुंच चुका है और नए साल (2023) के आने में बस अब चंद दिन बाकी रह गए हैं. यह साल का वो समय होता है जब लोग आने वाले साल के लिए प्लानिंग शुरू कर देते है. क्योंकि लोगों के जीवन का आर्थिक पक्ष भी एक महत्वपूर्ण हिस्सा होता है, इसलिए उन्हें निवेश के उद्देश्य से भी सोचना शुरू कर देना चाहिए. पिछले आपको पैसा कहां निवेश करना चाहिए कुछ समय से देखा जाए तो स्टॉक मार्केट में लोगों खासकर युवा वर्ग की दिलचस्पी बढ़ी है. वह नियमित तरीके से होने वाली आय के साथ-साथ पैसों को नई-नई स्कीम्स में इन्वेस्ट कर एक्स्ट्रा आय का साधन बना रहे हैं. इन्हीं में से एक निवेश का साधन है म्यूचुअल फंड. म्यूचुअल फंड एक प्रोफेशनली रूप से मैनेज्ड निवेश स्कीम है, जो सिक्योरिटीज को खरीदने के लिए इन्वेस्टर्स से पैसा इकठ्ठा करती है.

इस दौरान कुछ लोग जो म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करना चाहते हैं, वह कुछ चीजों को लेकर काफी कन्फ्यूज रहते हैं और उस प्रश्नों के जवाब के लिए अपने करीबी या इंटरनेट की मदद लेते है. हालांकि, इस बीच सबसे बड़ा सवाल जो एक नए इन्वेस्टर के मन में आता है वह है कि कौन सी म्यूचुअल फंड स्कीम में इन्वेस्ट करें. लेकिन फिलहाल घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि हमने आप के लिए ऐसी म्यूचुअल फंड स्कीम्स की लिस्ट तैयार की है, जो आपको इन्वेस्ट करने में मदद कर सकती है.

इस लिस्ट में एग्रेसिव हाइब्रिड, लार्ज कैप, मिड कैप, स्मॉल कैप और फ्लेक्सी कैप स्कीमें चुनी गई हैं, जिसमें शामिल हैं -

Young People Savings: युवा वयस्कों के लिए पैसे बचाने के ये 5 उपाय

Young People Savings: जब आप युवा होते हैं, तो पैसा बचाना एक असंभव कार्य की तरह लग सकता है। तनख्वाह महीने-दर-महीने आती रहती है और उसमें जीवन चलाना एक बार को सुखद हो सकता है, लेकिन भविष्य में वित्तीय कठिनाइयों को देखते हुए रुपये जोड़ना कठीन होता है। ऐसे में हर महीने थोड़ा सा पैसा अलग रखने से बहुत फर्क पड़ सकता है। युवा वयस्कों के लिए पैसे बचाने के ये पांच टिप्स आपको भविष्य की वित्तीय सुरक्षा देने के मार्ग पर आगे बढ़ा सकते हैं।

एक युवा वयस्क के रूप में पैसे बचाने के पांच तरीके

  • एक बजट बनाएं: आपने इसे पहले भी किसी से सुना होगा। बजट बनाना और उस पर टिके रहना पैसे बचाने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है। बजट बनाने का मतलब यह नहीं है कि आपको अपने बाकी के जीवन के लिए मौज-मस्ती करना छोड़ देना है। एक बजट बनाकर, आप देख पाएंगे कि हर महीने आपका पैसा कहां जा रहा है। आरंभ करने के लिए ऑनलाइन और मोबाइल बैंकिंग में MyMoney का उपयोग करने का प्रयास करें।
  • बचत और निवेश करने का इंतजार न करें: बचत करना और निवेश करना इस समय एक चुनौती की तरह लग सकता है, लेकिन सप्ताह में केवल कुछ रुपयों की बचत करने से बड़ा प्रभाव हो सकता है। अपने बजट का उपयोग यह देखने के लिए करें कि आप हर महीने अपने बचत खाते में कितना पैसा डाल सकते हैं। और जहां तक निवेश की बात है, यदि आपका नियोक्ता 401(k) खाता प्रदान करता है, तो आप यह तय करें कि कितना वेतन योगदान करना है और समय के साथ इसे भी बढ़ाना है।
  • अपनी आमदनी का एक तिहाई हिस्सा बचाएं: यदि आप सुनिश्चित नहीं हैं कि आपको कितनी बचत करनी चाहिए, तो आपको आय का एक-तिहाई हिस्सा बचाने की सलाह की जाती है यदि आप कर सकते हैं तो। आपके द्वारा कमाए गए प्रत्येक $3 में से $1 की बचत करके, आप भविष्य की वित्तीय कठिनाइयों, जैसे छंटनी, कार मरम्मत, घर की मरम्मत और अन्य आश्चर्यजनक खर्चों से बचना आसान बना रहे हैं।
  • इमरजेंसी फंड शुरू करें: आर्थिक तंगी से बचने का एक और अच्छा तरीका है एक इमरजेंसी फंड शुरू करना। इन्वेस्टोपेडिया कुछ पैसे को उच्च-ब्याज बचत खाते, सीडी या मुद्रा बाजार खाते में डालने की सिफारिश करता है।
  • अपने कर्ज का भुगतान करें: जहां बचत में पैसा लगाना आपके भविष्य के लिए तैयार करने का एक अच्छा तरीका है, वहीं आपको अपने कर्ज का भुगतान करने के बारे में भी चिंतित होना चाहिए। आपको अपने कर्ज का भुगतान करने के बारे में आक्रामक होना चाहिए और सावधान रहना चाहिए कि आपके क्रेडिट कार्ड को नियंत्रण से बाहर न होने दें।

और पढ़िए – बिजनेस से जुड़ी अन्य बड़ी ख़बरें यहाँ पढ़ें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

पोस्ट ऑफिस की ये स्कीम आपको बनाएगी करोड़पति , हर महीने करना होगा इतना निवेश

gg

यूटिलिटी न्यूज़ डेस्क . अगर आप सुरक्षित निवेश करना चाहते हैं तो आपको आपको पैसा कहां निवेश करना चाहिए पोस्ट ऑफिस की योजनाओं में निवेश करना चाहिए। यहां आपका पैसा पूरी तरह सुरक्षित माना जाता है। यहां आप अपनी सुविधा के अनुसार कई योजनाओं में निवेश कर सकते हैं। पोस्ट ऑफिस की कुछ ऐसी स्कीम्स हैं जो आपको कुछ सालों में अच्छा मुनाफा भी देती हैं। खासकर पोस्ट ऑफिस की छोटी बचत योजनाओं में पैसा जमा करना एक बेहतर विकल्प है। अगर आप लंबी अवधि के लिए निवेश करते हैं तो आप पब्लिक प्रोविडेंट फंड में निवेश कर सकते हैं। जो आपको करोड़पति बना सकता है।

वार्षिक चक्रवृद्धि दर प्रतिशत देती है। स्कीम की मेच्योरिटी 15 साल है , लेकिन उसके बाद इसे और 5 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है। अगर आपको 15 साल की अवधि के अंत में फंड की जरूरत नहीं है , तो आप इसे निकाल सकते हैं। इससे आपको चक्रवृद्धि ब्याज का लाभ मिलेगा।

डाकघर की यह बचत योजना सालाना चक्रवृद्धि 7.1 प्रतिशत की ब्याज दर प्रदान करती है। स्कीम की मेच्योरिटी 15 साल है , लेकिन उसके बाद इसे और 5 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है। अगर आपको 15 साल की अवधि के अंत में फंड की जरूरत नहीं है , तो आप इसे निकाल सकते हैं। इससे आपको चक्रवृद्धि ब्याज का लाभ मिलेगा।

इस योजना में आप हर साल अधिकतम 1.50 लाख रुपये का निवेश कर सकते हैं। एक साल में 1.50 लाख रुपए जमा करने की जगह आप 12500 रुपए मंथली भी जमा कर सकते हैं। इसके अलावा आप पीपीएफ पर इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80 सी के तहत टैक्स छूट भी पा सकते हैं। इसके ब्याज पर कमाए गए पैसे पर कोई टैक्स नहीं लगता है। बचत योजना में 22.5 लाख रुपये निवेश करने पर आपको 18 लाख रुपये का ब्याज मिलता है। जिसकी मेच्योरिटी 15 साल में है।

एसआईपी योजना के लाभ : हर साल आप अधिकतम रुपये का निवेश कर सकते हैं। 1.50 लाख का निवेश किया जा सकता है। एक साल में 1.50 लाख रुपए जमा करने की जगह आप 12500 रुपए मंथली भी जमा कर सकते हैं। इसके अलावा आप पीपीएफ पर इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80 सी के तहत टैक्स छूट भी पा सकते हैं। इसके ब्याज आपको पैसा कहां निवेश करना चाहिए पर कमाए गए पैसे पर कोई टैक्स नहीं लगता है। बचत योजना में 22.5 लाख रुपये निवेश करने पर आपको 18 लाख रुपये का ब्याज मिलता है। जिसकी मेच्योरिटी 15 साल में है।

अगर आप इस योजना में हर महीने 12,500 रुपये का निवेश करते हैं , तो आपके पास एक साल में 1.50 लाख रुपये होंगे। यानी आपको प्रतिदिन 416 रुपये की बचत करनी होगी। वहीं , 15 साल में कुल निवेश 22.50 लाख रुपए आता है , जिस पर आपको 7.1 फीसदी सालाना ब्याज दिया जाता है। परिपक्वता राशि कुल रु . 40.70 लाख , जिनमें रु . ब्याज लाभ के रूप में 18.20 लाख।

अगर आप इस योजना में हर महीने 12,500 रुपये का निवेश करते हैं , तो आपके पास एक साल में 1.50 लाख रुपये होंगे। यानी आपको प्रतिदिन 416 रुपये की बचत करनी होगी। वहीं , 15 साल में कुल निवेश 22.50 लाख रुपए आता है , जिस पर आपको 7.1 फीसदी सालाना ब्याज दिया जाता है। परिपक्वता राशि कुल रु . 40.70 लाख , जिनमें रु . ब्याज लाभ के रूप में 18.20 लाख।

25 साल तक प्रति माह रु . 12,500 रुपये जमा करके। राशि के दोगुने से 40.70 लाख अधिक। यदि केवल 7.1 प्रतिशत की वार्षिक ब्याज दर लागू होती है , तो 25 वर्षों में कुल निवेश रु। 37.50 लाख। और रुपये के ब्याज लाभ के साथ। ब्याज में 62.50 लाख , यानी परिपक्वता पर रु। 1.03 करोड़ मिलेंगे।

25 साल तक प्रति माह रु . 12,500 रुपये जमा करके। राशि के दोगुने से 40.70 लाख अधिक। यदि केवल 7.1 प्रतिशत की वार्षिक ब्याज दर लागू होती है , तो 25 वर्षों में कुल निवेश रु। 37.50 लाख। और रुपये के ब्याज लाभ के साथ। ब्याज में 62.50 लाख , यानी परिपक्वता पर रु। 1.03 करोड़ मिलेंगे।

NPS में निवेश कर भविष्य को कर सकते है आर्थिक रूप से सुरक्षित, ये है बेस्‍ट पेंशन स्कीम

नई दिल्‍ली । भारत (India) में नौकरीपेशा लोग (working people) 50 से 65 साल की उम्र के बीच रिटायर होते हैं. अधिकतर लोग नौकरी के दौरान ही रिटायरमेंट (Retirement) के बाद के लिए प्लानिंग करना शुरू कर देते हैं. ताकी जिंदगी की उनकी दूसरी पारी भी शानदार तरीके से गुजरे. बुढ़ापे में आपको किसी के ऊपर आर्थिक रूप से निर्भर नहीं रहना पड़े. इसके लिए आपको नौकरी के दौरान ही फइनेंसियल प्लानिंग (Financial Planning) कर लेनी चाहिए. इसके लिए जरूरी है कि आप सही जगह पर निवेश करें. इन दिनों लोग बड़ी संख्या में सरकारी पेंशन स्कीम (NPS) में निवेश कर रहे हैं.

लॉन्ग टर्म निवेश प्लान
नेशनल पेंशन स्कीम को शुरुआत में सिर्फ सरकारी कर्मचारियों के लिए पेश किया गया था. बाद में इसे सभी के लिए खोल दिया गया. NPS एक लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट प्लान है. इस स्कीम में आपको दो प्रकार के अकाउंट टियर-I और टियर-II में निवेश करने के ऑप्शन मिलते हैं. NPS में 18 साल से लेकर 60 साल की उम्र तक के लोग निवेश की शुरुआत कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें | EV को लेकर Toyota का बड़ा बयान, E-Car के फ्यूचर को लेकर कह दी ये बात

दोनों टियर में अंतर
अगर NPS में आप निवेश करना चाहते हैं, तो सबसे पहले टियर-I में अकाउंट में ओपन करना होगा. इसके बाद ही आप टियर-II अकाउंट खोल सकते हैं. टियर-II अकाउंट खोलने के लिए आपको मिनिमम 1000 रुपये से निवेश की शुरुआत करनी होगी.

NPS टियर-II अकाउंट एक तरह से सेविंग अकाउंट (Saving Account) की तरह है. इसमें आप कभी भी अपने हिसाब से पैसे जमा कर सकते हैं और अपनी जरूरत के हिसाब से निकाल भी सकते हैं. आप चाहें तो एक ही बार में पूरी रकम भी निकाल सकते हैं. टियर-II में आपको साल में पैसा जमा करने की बाध्यता नहीं होती है. वहीं, NPS टियर-I में आपको साल में एक बार पैसा जमा करना जरूरी होता है.

NPS टियर-I
NPS टियर-I को रिटायरमेंट के मुताबिक डिजाइन किया गया है. इसके तहत 500 रुपये के निवेश के साथ अकाउंट ओपन कराया जा सकता है. रिटायरमेंट के बाद आप NPS के टियर-I अकाउंट से एक बार में 60 फीसदी तक की राशि आसानी से निकाल सकते हैं. बाकी की 40 फीसदी की राशि से आपको एन्यूटीज (Annuties) खरीदनी पड़ती है. एन्यूटी की रकम ही आपको हर महीने पेंशन के रूप में मिलती है.

टैक्स बेनिफिट में अंतर
दोनों अकाउंट पर मिलने वाले इनकम टैक्स में बड़ा फर्क है. टियर-I अकाउंट के मामले में अकाउंट होल्डर को इनकम टैक्स एक्ट 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये तक और 80सीसीडी (1बी) के तहत 50 हजार रुपये के टैक्स डिडक्शन का बेनिफिट मिलता है.

वहीं, NPS टियर-II किसी भी तरह टैक्स में छूट नहीं मिलती है. सिर्फ केंद्र सरकार के कर्मचारी ही NPS टियर-II अकाउंट पर टैक्स बेनफिट ले सकते हैं. हालांकि, उनके लिए भी शर्त तय की गई है. सरकारी कर्मचारियों को टैक्स बेनिफिट लेने के लिए निवेश की राशि पर तीन साल के लिए लॉकिंग पीरियड लग जाएगा.

NPS टियर-I अकाउंट से निकासी की पूरी रकम को टैक्स से छूट मिलती है. वहीं, NPS टियर-II अकाउंट से पैसे निकालते हैं तो निकासी की रकम को टैक्सेबल इनकम (Taxable Income) माना जाता है.

रेटिंग: 4.90
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 785