फंडामेंटल एनालिसिस क्या हैं ?

What is technical analysis in hindi – टेक्निकल एनालिसिस क्या होता है और निवेश करने से पहले टेक्निकल एनालिसिस क्यों करना चाहिए

What is technical टेक्निकल एनालिसिस और फंडामेंटल एनालिसिस में क्या अंतर है? analysis in hindi – टेक्निकल एनालिसिस क्या होता है और निवेश करने से पहले टेक्निकल एनालिसिस क्यों करना चाहिए: कोई भी निवेशक स्टॉक मार्केट में निवेश करने से पहले टेक्निकल एनालिसिस जरूर करता है। यदि स्टॉक मार्केट का बिना टेक्निकल एनालिसिस किए निवेशक निवेश करता है, तो उसे घाटे का सामना करना पड़ता है। तो चलिए दोस्तों आज के इस आर्टिकल में जानते हैं कि टेक्निकल एनालिसिस (Technical analysis) क्या होता है और निवेश करने से पहले निवेशकों को टेक्निकल एनालिसिस करना क्यों जरूरी है इसके फायदे क्या है जानते हैं सब-कुछ आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें।

तकनीकी विश्लेषण यानी टेक्निकल एनालिसिस क्या है- (What is technical analysis in hindi)

टेक्निकल एनालिसिस द्वारा शेयर मार्केट में हुए उतार-चढ़ाव के बारे में पता लगाया जाता है। निवेशक टेक्निकल एनालिसिस (Technical analysis) का उपयोग ट्रेडर्स कम समय में ट्रेडिंग करके ज्यादा मुनाफा कमाने के लिए करते हैं। हम आपको बता दें कि शॉर्ट टर्म में किसी भी शेयर की प्राइस बहुत तेजी से कम ज्यादा होता रहता है। ऐसे में निवेशक आइडिया लेने के लिए की किस प्राइस में हम शेयर को खरीदें तो हमें मुनाफा होगा। इसी प्रॉब्लम को सॉल्व करने के लिए जिस तकनीकी का उपयोग होता है। उसे टेक्निकल एनालिसिस कहते हैं।

टेक्निकल एनालिसिस निवेशकों के लिए उपयोगी क्यों है- (Why technical analysis is useful for investors)

कम समय के लिए निवेश और ट्रेडिंग के मामले में टेक्निकल एनालिसिस निवेशकों के लिए उपयोगी होता है। क्योंकि टेक्निकल एनालिसिस (Technical analysis) निवेशकों को यह बताता है कि ट्रेडिंग में कब पैसा लगाने से आपको मुनाफा ज्यादा हो सकता है। टेक्निकल एनालिसिस के माध्यम से निवेशक किसी भी स्टॉक को उचित मूल्य पर खरीद या बेच सकते हैं।

टेक्निकल एनालिसिस करने की प्रक्रिया (Process of Technical analysis)

process-of-technical-analysis

टेक्निकल एनालिसिस करने की प्रक्रिया

टेक्निकल एनालिसिस करने के निम्नलिखित पैरामीटर का उपयोग किया जाता है-

चार्ट (Chart)

टेक्निकल एनालिसिस यानी तकनीकी विश्लेषण (Technical analysis) में चार्ट का इस्तेमाल स्टॉक के पास्ट प्राइस (Past price) गतिविधियों को जानने के लिए किया जाता है। चार्ट के माध्यम से यह पता लगाया जाता है कि किस स्टॉक का प्राइस ऊपर या नीचे जाने वाला है।

मूल्य कार्यवाही (Price action)

प्राइस एक्शन टेक्निक द्वारा केवल स्टॉक के कीमतों का विश्लेषण किया जाता है। क्योंकि शॉर्ट टेक्निकल एनालिसिस और फंडामेंटल एनालिसिस में क्या अंतर है? टर्म (short term) में ट्रेडिंग करते के समय निवेशक प्राइस को ज्यादा महत्त्व देते हैं।

चार्ट पैटर्न (Chart pattern)

किसी भी शेयर या स्टॉक की प्राइस एक सीधी रेखा में आगे की तरफ नहीं बढ़ती बल्कि वह ऊपर नीचे होती रहता है। इसी ऊपर नीचे होने की प्रक्रिया में चार्ट में छोटे-बड़े कई पैटर्न बन जाते हैं। जिस चार्ट पैटर्न (Chart pattern) को देखकर निवेशक समझ जाते हैं कि कब स्टॉक खरीदना है और बेचना है।

सूचक (Indicator)

इंडिकेटर एक तरह का सॉफ्टवेयर प्रोग्राम (Software program) होता है, जो किसी भी शेयर के पास्ट प्राइस, या वैल्यू को देखकर एनालिसिस करता है कि आने वाले भविष्य में इस शेयर का ट्रेड क्या होगा। इससे निवेशक अच्छा लाभ कमा पाएंगे कि नहीं।

शेयर वॉल्यूम (Share volume)

शेयर वैल्यू से यह पता चलता है कि किसी शेयर के स्टाक एक्सचेंज पर कितना खरीद-बिक्री हो रहा है। इसे आसान शब्दों में कहें तो Share volume से यह पता चलता है कि उस स्टॉक की खरीद-बिक्री कितनी है। जिसके आधार पर स्टॉक का टेक्निकल एनालिसिस करना आसान हो जाता है।

निवेश करने से पहले टेक्निकल एनालिसिस करना क्यों जरूरी है (Why it is important to do technical analysis before investing)

  • एक सफल निवेशक बनने के लिए टेक्निकल एनालिसिस (Technical analysis) करना बेहद जरूरी है। क्योंकि आप स्टॉक का जितना टेक्निकल एनालिसिस करेगे उतना ही सफल निवेशक बनेंगे।
  • शॉर्ट टर्म में स्टॉक कितना बेहतरीन प्रदर्शन करेगा इसके लिए टेक्निकल एनालिसिस (technical analysis) करना जरूरी होता है। ऐसे में स्टॉक, इंडेक्स, इन्वेस्टमेंट इंस्ट्रूमेंट, में निवेश करने से पहले टेक्निकल एनालिसिस जरूरी करे।
  • शेयर बाज़ार में तुक्का काम नहीं करता। शेयर मार्केट में बिना टेक्निकल एनालिसिस (Technical analysis) किए निवेश करना शराब पीकर गाड़ी चलाने के बराबर है। इसलिए शेयर बाज़ार में निवेश करने से पहले टेक्निकल एनालिसिस करना आवश्यक होता है।
  • बगैर जानकारी के शेयर बाज़ार में निवेश करना, घाटे का सौदा होता है। इसलिए शेयर मार्केट (Share market) में निवेश करने से पहले टेक्निकल एनालिसिस अवश्य करना चाहिए। ताकि आपको शेयर मार्केट के बारे में संपूर्ण जानकारी मिल सके और आप अपने निवेश पर अच्छा लाभ प्राप्त कर सके।

टेक्निकल एनालिसिस करने के फायदे (Benefits of technical analysis)

Benefits-of-technical-analysis

टेक्निकल एनालिसिस करने के फायदे (Benefits of technical analysis)

  • निवेशकों द्वारा टेक्निकल एनालिसिस (Technical analysis) करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि निश्चित अंतराल में बाज़ार के रुझान का पता चलता है। इसके अलावा चार्ट एनालिसिस द्वारा ऊपर, नीचे एवं साइड के रुझानों के बारे में पता चलता है।
  • टेक्निकल एनालिसिस (Technical analysis) के आधार पर किए गए ट्रेड की अवधि 1 मिनट से लेकर 1 हफ्ते के लिए भी हो सकती है। लेकिन कम समय के अवधि के लिए टेक्निकल एनालिसिस करना काफी फायदेमंद साबित होता है।
  • शॉर्ट टर्म निवेश के लिए टेक्निकल एनालिसिस उपयोगी होता है। हम आपको बता दें कि टेक्निकल एनालिसिस (Technical analysis) का उपयोग शॉर्ट टर्म ट्रेड की पहचान करने के लिए की जाती है।
  • टेक्निकल एनालिसिस चार्ट पैटर्न, इंडिकेटर जैसे अन्य टेक्निकल टूल्स प्रदान करता है, जो ट्रेडिंग करने वाले को प्राइस मोमेंट एनालिसिस करने एवं महत्त्वपूर्ण ट्रेडिंग निर्णय लेने में मदद करता है।

ये भी पढ़ें:

अंतिम शब्द

दोस्तों हमने इस आर्टिकल (What is technical analysis in hindi – टेक्निकल एनालिसिस क्या होता है और निवेश करने से पहले टेक्निकल एनालिसिस क्यों करना चाहिए) के माध्यम बताया है कि टेक्निकल एनालिसिस (Technical analysis) क्या होता है शेयर मार्केट में निवेश करने से पहले टेक्निकल एनालिसिस क्यों करना चाहिए। इसके फायदे क्या है। हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल जरूर पसंद आया होगा।

अगर ये पोस्ट (What is technical analysis in hindi – टेक्निकल एनालिसिस क्या होता है और निवेश करने से पहले टेक्निकल एनालिसिस क्यों करना चाहिए) आपको पसंद आयी है तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिये और अपने फ़ेसबुक, व्हाट्सएप, ट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन अकाउंट के माध्यम से सोशल मीडिया पर भी शेयर करे और इस ब्लॉग को आगे बढ़ने में मदद करे। ऐसे ही बैंकिंग और फाइनेंस से जुड़ी खबरों के बारे में जानने के लिए हमारे वेबसाइट से जुड़े रहे। बहुत जल्द मिलते हैं एक नए आर्टिकल के साथ नमस्कार।

Fundamental Analysis in Hindi | फंडामेंटल एनालिसिस क्या हैं ?

Fundamental Analysis in Hindi | फंडामेंटल एनालिसिस क्या हैं ?


फंडामेंटल एनालिसिस क्या हैं ?

इस आर्टिकल मे आप जानेंगे की Fundamental Analysis in Hindi, फंडामेंटल एनालिसिस क्या हैं ?, मौलिक विषलेशन मे आप क्या देखते हैं ? (या स्टॉक का फंडामेंटल एनालिसिस कैसे करे ?)।

फंडामेंटल एनालिसिस शेयर मार्केट मे स्टॉक को एनालिसिस करने का एक तरीका हैं ।

हम कह सकते हैं की फंडामेंटल एनालिसिस यह 4 चीजो से बनता हैं

Table of Contents

फंडामेंटल एनालिसि

1 . स्टॉक एनालिसिस

2 . सेक्टर एनालिसिस

3 . बिज़नस एनालिसिस

4 . इकॉनोमी एनालिसिस

ज्यादा तौर पर बड़ी संख्या मे जो निवेशक लंबे समय तक निवेश करना चाहते हैं वह फंडामेंटल एनालिसिस का उपयोग करते हैं ।

फंडामेंटल एनालिसिस का उपयोग लम्बे समय तक निवेश करने के लिए किया जाता हैं।

इससे हमे पता चलता हैं टेक्निकल एनालिसिस और फंडामेंटल एनालिसिस में क्या अंतर है? की कंपनी का भविष क्या हैं, वह कितना पैसा कमा सकती हैं ? और उसके भविष्य में आने वाली योजनाये क्या हैं ?

1. फंडामेंटल एनालिसिस का क्या फायदा हैं ?

फंडामेंटल एनालिसिस यह फायदा हैं की, शेयर की intrinsic Value यानि की शेयर की वर्तमान कीमत को देखकर भविष्य मे शेयर कैसे प्रदर्शन कर सकता हैं उसकी जानकारी मिलती हैं ।

जैसे कोई डॉक्टर हमारी बॉडी चेकअप करते हैं, ब्लडटेस्ट, उरिन टेस्ट, ब्लड प्रेशर इत्यादि तो इससे हमे पता चलता हैं की हमे कोई बीमारी तो नहीं या हम कितने तंदरुस्त हैं।

वैसे ही फंडामेंटल एनालिसिस के जरिये हम जान पाते हैं की, कंपनी की वर्त्तमान में क्या स्तिति हैं और भविष्य क्या हो सकता हैं ।

फंडामेंटल एनालिसिस के जरिये आप एक अच्छी कंपनी और एक ख़राब कंपनी के बीच अंतर जान सकते हैं ।

2. फंडामेंटल एनालिसिस सीखने के लिए क्या जरूरी हैं ?

फंडामेंटल एनालिसिस सिखने के लिए जरूरी नहीं हैं की आप CA हो या बोहोत पढे लिखे हो ।

इंटरनेट की दुनिया मे आज हर कोई फंडामेंटल एनालिसिस सिख सकता हैं, चाहे वह पढ़ा लिखा हो या नहीं ।

सिर्फ आप को शेयर बाजार सीखने मे रुचि होनी चाहिए ।

3. मौलिक विषलेशन मे आप क्या देखते हैं ?

(या स्टॉक का फंडामेंटल एनालिसिस कैसे करे )

फंडामेंटल एनालिसिस को हिंदी मे मौलिक विषलेशन कहते हैं ।

मौलिक विषलेशन हम देखते हैं –

  • कंपनी की वर्षीक रिपोर्ट (Annual Report)
  • लाभ और हानि खाता (Profit & Loss Statement)
  • तुलन पत्र (Balance Sheet)
  • नकद प्रवाह विवरण (Cash Flow Statement)
  • Financial Ratio analysis
  • Equity Research
  • DCF (Discounted Cash flow)
  • Industry Analysis
  • कंपनी का मैनेजमेंट

इत्यादि चीजे हम मौलिक विषलेशन करते समय देखते हैं ।

(स्टॉक का फंडामेंटल एनालिसिस कैसे करे इसकी विस्तार मे जानकारी आने वाले आर्टिकल मे दी जाएगी । )

आप इन सारी रिपोर्ट्स को Money Control की वेबसाइट से बड़ी आसानी से प्राप्त कर सकते हैं ।

निष्कर्ष

इस आर्टिकल के जरिये आप जान पाए होंगे की फंडामेंटल एनालिसिस क्या हैं ? और उसके फायदे क्या हैं ?

फंडामेंटल एनालिसिस एक जरिया हैं जो की हम किसी कंपनी को जान पते हैं ।

इससे हमें निवेश करने में आसानी होती हैं और हम बड़ी आसानी से निवेश कर पाते हैं ।

इसे हर कोई सिख सकता हैं ।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल –

1 . फंडामेंटल एनालिसिस क्या हैं ?

Ans:- फंडामेंटल एनालिसिस शेयर मार्केट मे स्टॉक को एनालिसिस करने का एक तरीका हैं ।

2 . फंडामेंटल एनालिसिस का क्या फायदा हैं ?

Ans:- फंडामेंटल एनालिसिस के जरिए शेयर की intrinsic Value यानि की शेयर की वर्तमान कीमत को देखकर भविष्य मे शेयर कैसे प्रदर्शन कर सकता हैं उसकी जानकारी मिलती हैं ।

शेयर मार्केट में Technical Analysis क्या होता हे ?

technical analysis kya hota he(technical analysis in hindi)

technical analysis kya hota he(technical analysis in hindi)

technical analysis से हम किसीभी स्टॉक प्राइज की मूवमेंट को देखके उसके फ्यूचर(भविष्य)प्राइज का अंदाज़ा लगा सकते हे मतलब हम प्रिडिक्ट करते हे की फ्यूचर में शेयर की प्राइज अप रहेगी या फिर डाउन रहेगी या फिर एक फिक्स रेंज में रहेगी।

दोस्तों आज हम देखेंगे technical analysis kya hota he(technical analysis in hindi) के बारे में जो की फिलाल शेयर मार्किट में बहुत ज़ोरिसे चल रहा हे। टेक्निकल एनालिसिस का Fundamental analysis से कुछ भी लेने देना नहीं हे उन दोनों में बहु अंतर हे। और नहीं टेक्निकल एनालिसिस करके इन्वेस्टमेंट की जाती हे क्युकी टेक्निकल एनालिसिस सिर्फ करंट प्राइज बताता हे। और उसके माध्यम से आगे होने वाले हलचल (Movement) का अंदाज़ा लगता हे , और कोई भी अंदाजा सही रहेगा इसकी कोई गॅरंटी नहीं होती।

technical analysis kya hota he(technical analysis in hindi)

technical analysis kya hota he(technical analysis in hindi)

technical analysis kya hota he(technical analysis in hindi)

टेक्निकल एनालिसिस एक tradingके लिए इस्तेमाल होता हे। मतलब शेयर को कम से कम टाइम में खरीदना और बेचना , उससे शेयर का भाव कम ज्यादा होता रहता हे। उसी प्राइज को दर्शाता हे टेक्निकल एनालिसिस। टेक्निकल एनालिसिस किसीभी स्टॉक का प्राइज एक मूवमेंट को फॉलो करता हे जैसे की वो एक ट्रेंड में रेहता हे। उस ट्रैंड के भी तीन प्रकार होते हे। जैसे की up trend , down trend और एक होता हे sideways trend ये मूवमेंट रहते हे.

up trend

ट्रेडिंग में किसी भी स्टॉक का प्राइज एक continually उपर की साइड में चल रहा होता हे। मतलब उसका अभी up trend चालू हे ऐसा कहा जाता हे। और उसी ट्रेंड को फॉलो करके टेक्निकल एनयलीसिस ये अंदाजा लगता हे की आगे भी वो इसी ट्रेंड को फॉलो करेंगे। मतलब वो आगे भी उप ही रहेगा लेकिन टेक्नीकल एनलीसिस सिर्फ अंदाजा लगा सकते हे। क्युकी स्टॉक मार्किट में ऐसी कुछ फिक्स स्ट्रैटर्जी नहीं होती।

जिससे हम मार्किट की प्राइज कहा जाएगी ये पता लगा सके टेक्निकल से सिर्फ मूवमेंट पता चलती हे. और टेक्निकल एनालिसिस और फंडामेंटल एनालिसिस में क्या अंतर है? इस ट्रेंड को पता लगाने के लिए भी कई सारे टूल होते हे. जैसे की candlestick pattern , indicators , trend lineऐसे बहुत से सरे टूल होते हे जिससे हम सिर्फ शेयर के प्राइज का अंदाजा लगा सकते हे।

down trend ;

ट्रेडिंग में किसी भी स्टॉक का प्राइज नियमित निचे आ रहा हे। तो उसका मतलब स्टॉक का प्राइज डाउन ट्रेंड में हे। और टेक्निकल एनालिसिस को टूल्स से हम ट्रेंड का पता लगा कर हम स्टॉक की फ्यूचर प्राइज का अन्दाज़ा लगा पाते हे।

लेकिन ज्यादा मूवमेंट होने की वजा से न ही ट्रैंड काम आता हे। और नहीं टेक्निकल एनालिसिस का कोई भी टूल। टेक्निकल एनालिसिस में स्टॉक प्राइज की करंट प्राइज देखके के ट्रेडिंग की जाती हे। और प्रिडिक्ट किया जाता हे की आगे भी शेयर प्राइज उसी तरह रहेगा जैसे कोई भी ट्रेंड में होगा वैसे ही भविष्य में रहेगा।

sideways trend

sideways trend में स्टॉक का प्राइज एक रेंज में रहता एक फिक्स प्राइज के बिच में शेयर का प्राइज अप और डाउन रहता हे।और टेक्निकल एनालिसिस से मार्किट का ट्रेण्ड फॉलो करके स्टॉक की फ्यूचर प्राइज क्या होगी इसका अंदाज़ा लगाया जाता हे। sideways trend में ट्रेडिंग करना बहुत ही मुश्किल होता हे। नाहीं प्राइज ऊपर जाती हे. और नहीं निचे वो एक रेंज में उप डाउन होती रहती हे।

टेक्निकल एनालिसिस से स्टॉक में हम सिर्फ ड्रेडिंग कर सकते हे। ये मतलब हम उससे सिर्फ फ्यूचर मे होने वाले मूवमेंट का अंदाज़ा लगा सकते हे और किसी स्टॉक में हम उसका ट्रेंड को देखकर उसमे ट्रेडिंग कर सकते।

trading क्या होता हे

ट्रेडिंग का मतलब होता हे की सी भी स्टॉक को एक टाइम लिमिट के लिए ख़रीदा और बेचा जा सकता हे. हम दीर्घकाल निवेश (Long Term ) के लिए किसी भी स्टॉक को नहीं रख सकते। उसकी एक टाइम लिमिट होती हे। जिससे किसी स्टॉक में हमें प्रॉफिट या लोस् में हो फिर भी हमें उस हमारी पोजीशन को square off करना पड़ता हे। मतलब हमें उस पोजीशन से एग्जिट होना पड़ता हे नहीं तो ब्रोकर हमें उसकी पेनेल्टी भी लगा देता हे

trading के भी प्रकार होते हे जैसे की day trading , swing trading ,scalping इनका , मतलब हमें कुछ टाइम लिमिट दी जाती हे उसकी मुताबित हम शेयर को खरीद या बीच सकते हे।

Day trading

स्टॉक मार्किट का एक फिक्स टाइमिंग होता हे सुबह ९;१५ को आप ट्रेडिंग कर सकते हे। तो मार्किट के क्लोसिंग (बंद) टाइमिंग ३;२० तक आप ट्रेडिंग कर सकते हे। इसका मतलब आपने ९;१५ को शेयर ख़रीदा तो आपको ३;२०तक उसे बेचना ही होगा। नहीं तो आपका ब्रोकर उसको बेच देता हे आपका फायदा हो या आपका नुकसान ,और आपको उसकी पेनल्टी भी भरनी पड़ती हे।

swing trading

स्विंग ट्रेडिंग का मतलब एक विशेष कालावधि के लिए स्टॉक को हम खरीद कर हमारे अकाउंट में रखते हे टेक्निकल एनालिसिस और फंडामेंटल एनालिसिस में क्या अंतर है? और प्रॉफिट होने के बाद उसी स्टॉक को बेच देते इसे ही सिंपल भाषा में स्विंग ट्रेडिंग कहते हे।

scalping

स्कल्पिंग का मतलब होता हे की कुछ लोग सिर्फ कुछ मिनिट के लिए स्टॉक में ट्रेडिंग करते हे। मतलब टेक्निकल एनालिसिस करके स्टॉक को पहले ख़रीदा और प्रॉफिट होने पैर उससे बेच दिया और ये खरीदने और बेचने का टाइम सिर्फ कुछ मिनटों का रहता हे।

और ये सब सिर्फ टेक्निकल एनालिसिस को समजकर या उसकि समज होने पर ही हम कर सकते हे , बहुत से लोगो ने टेक्निकल एनालिसिस की समज न होने की वजहा से स्टॉक मार्किट में बहुत बड़े नुकसान उठाये हे। और इस नुकसान से बचने के लिए टेक्निकल एनालिसिस का क्नॉलेज होना बहुत महत्वपूर्ण हे।

टेक्निकल एनालिसिस की मदत से आप शेयर मार्केट के चार्ट को समझ सकते है। टेक्निकल एनालिसिस से आपको मार्केट के चार्ट का ट्रेंड पता चलता है ,की स्टॉक का प्राइज ऊपर जा सकता है या निचे। और इस तरह आप आसानी से टेक्निकल एनालिसिस से चार्ट को समझ सकते है।

technical analysis से हम किसीभी स्टॉक प्राइज की मूवमेंट को देखके उसके फ्यूचर(भविष्य)प्राइज का अंदाज़ा लगा सकते हे मतलब हम प्रिडिक्ट करते हे की फ्यूचर में शेयर की प्राइज अप रहेगी या फिर डाउन रहेगी या फिर एक फिक्स रेंज में रहेगी।

निष्कर्ष

यकीं हे की आपको technical analysis kya hota he(technical analysis in hindi) समज में आ गया होगा अगर आपको हमारी ये पोस्ट पसंद आये तो शेयर जरूर कीजियेगा और आपको अगर हमारी पोस्ट में कुछ समज नहीं आया होगा तो कमेंट बॉक्स में कमेंट लिखकर हमें भेज सकते हे। धन्यवाद!

Best Career Option: स्टॉक ट्रेंडिंग में रखते हैं इंट्रेस्ट, तो 12वीं के बाद बनाएं ट्रेडर के तौर पर करियर

Career in Stock Trending: ट्रेडिंग इंडस्ट्री में रोजगार के स्कोप भी काफी बढ़ रहे हैं. एक अच्छा ट्रेडर बनने के लिए फाइनांशियल स्टेटस, फंडामेंटल और टेक्निकल एनालिसिस का नॉलेज होना जरूरी है. जानें फुल टाइम ट्रेडर बनने के फायदे

alt

5

alt

4

alt

2

alt

5

Best Career Option: स्टॉक ट्रेंडिंग में रखते हैं इंट्रेस्ट, तो 12वीं के बाद बनाएं ट्रेडर के तौर पर करियर

Career in Stock Trending: वर्तमान में शेयर बाजार दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है. वहीं, ट्रेडिंग इंडस्ट्री में ग्रोथ होने के साथ-साथ ही इस सेक्टर रोजगार के स्कोप भी काफी बढ़ रहे हैं. बहुत से युवा स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग (Stock Market Trading) में दिलचस्पी ले रहे हैं. आपको एक अच्छा ट्रेडर बनने के लिए फाइनांशियल स्टेटस (Financial Status), फंडामेंटल एनालिसिस (Fundamental Analysis) और टेक्निकल एनालिसिस (Technical Analysis) का बेसिक नॉलेज होना बेहद ही जरूरी है.

पहले स्टॉक एक्सचेंज कागज-आधारित फिजिकल शेयर सर्टिफिकेट्स के साथ ट्रेडिंग करते थे, लेकिन अब तकरीबन 100 फीसदी ट्रेडिंग टेक्नोलॉजी और सॉफ्टवेयर के इस्तेमाल के जरिए की जा रही है. यहां जानें फुल टाइम ट्रेडर बनने के फायदे और इसके लिए जरूरी योग्यता क्या होनी चाहिए.

आयु सीमा
शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करने की कोई न्यूनतम उम्र नहीं है.

योग्यता
1.ट्रेडिंग में करियर बनाना चाहते हैं तो किसी सम्मानजनक फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन या कॉर्पोरेशन में ट्रेडिंग से रिलेटेड डिग्री होनी चाहिए.
2.ज्यादातर ट्रेडर के पास मैथ्स, फाइनेंस, अकाउंटिंग, इकोनॉमिक्स में डिग्री होती है.
3.डीमैट अकाउंट के लिए पैन कार्ड जरूरी है.
डीमैट अकाउंट ओपन करते समय केवाईसी डॉक्यूमेंट्स और पैन कार्ड की एक फोटो कॉपी जमा करना होता है.
4. इस इंडस्ट्री में इनवेस्टेंट एडवाइजरी या किसी कंसल्टिंग कंपनी में प्रोफेशनल के तौर पर काम करने के लिए एनआईएसएम सर्टिफाइड होना जरूरी है.
5.इकोनॉमिक्स/बिजनेस मैनेजमेंट/फाइनेंस या इससे जुड़े किसी कोर्स में ग्रेजुएट या मास्टर्स की डिग्री होना जरूरी है.

ट्रेडिंग के फायदे
सबसे बड़ा फायदा यह है कि आप खुद अपने मालिक होते हैं, किसी और के लिए काम करना जरूरी नहीं है.
सही नॉलेज और स्ट्रेटजी के साथ मार्केट से अच्छी-खासी कमाई की जा सकती है.
आप अच्छी ग्रोथ करने के साथ ही कैश मार्केट से डेरिवेटिव मार्केट तक बढ़ सकते हैं और लीवरेज को फ्रेंड बना सकते हैं.
इसमें सेबी रजिस्टर्ड निवेश एडवाइजर या सेबी रजिस्टर्ड रिसर्च एनालिस्ट बन सकतें है और कंसल्टिंग कर सकते हैं.

रेटिंग: 4.27
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 147